Thoughts #93

जब हम किसी जरूरतमंद की मदद करते हैं
तब ईश्वर उससे कहीं ज्यादा हमारी
मदद करता है दूसरे रूप में, और वहीं
जब हम किसी को दुःख – दर्द देते हैं,
किसी का फायदा उठाते हैं, उनका शोषण करते हैं
तब ईश्वर भी हमारा नुकसान करता है व
दर्द देता है कहीं ज्यादा दूसरे रूप में;
सीधा सा नियम है कि
फल का एक बीज बोओगे तो उससे उगे
पेड़ के जरिए कई फल खाने को मिलेंगे
लेकिन जब कांटे का एक बोओगे
तो कई कांटों से गुजरना पड़ेगा,
इस विचार को मैं proof नहीं कर सकता
लेकिन मैं इसपर विश्वास जरूर करता हूं ;
इसलिए लोगों की मदद कीजिए,
भले ही छोटी सी मदद हो पर कीजिए जरूर
हर कोई बहुत तकलीफ में है,
अपने स्तर पर एक युद्ध लड़ रहा है
दुनिया और इंसानियत को बस प्यार, मुस्कुराहट,
मदद, संवेदना, सांत्वना, आदि ही बचा सकते हैं ॥

14 thoughts on “Thoughts #93

  1. Bilkul sahi likha he aap ne

    Liked by 1 person

  2. Totally agree with this! Well written Navneet ♥♥

    Liked by 1 person

    1. Thank you ji thank you 🤗❤️🌹🌈🍫💐🔆😊

      Liked by 1 person

  3. What goes around, comes around
    Life is a circle
    So rightly written by you !

    Liked by 1 person

    1. Yeah true
      Thank you so much 💕🤗💐

      Like

  4. Right! mai bhi in baaton me believe karti hu..😇

    Liked by 1 person

    1. Mai bhi dear
      Thank you so much 🤗💐

      Liked by 1 person

  5. True.. being selfless and humanitarian is very important.

    Liked by 1 person

    1. 100% true
      Thanks dear 💐🤗🤗

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close