युद्ध से नफरत कर

युद्ध विनाश है
इससे नफरत कर
सभ्यताओं का करे सर्वनाश
जिसे रखा युगों से संजो कर
युद्ध कोई जवाब नहीं
है ये एक सवाल
टाल सिर पर लटकी
युद्ध की तलवार
भला न तेरा, भला न मेरा
फिर क्यों करता
ये भी मेरा, वो भी मेरा ?
मोहब्बत से जीत सकते
हैं हर युद्ध अगर
फिर क्यों तू बनाता
बैठ हथियार रात भर
शुरू या अंत में युद्ध समाप्त होता
जब हाथ मिला, हस्ताक्षर कर
तुम्हारे निशाने पर है कोई अगर
तुम भी हो किसी के निशाने पर
बर्बाद कर पृथ्वी को
खुद खड़े बर्बादी के मुहाने पर
इस धरती का क्या दोष
मासूमों का क्या दोष
सांसारिक वस्तुओं खातिर
जीवन दाँव पर लगा
कहाँ खोया हमने अपना होश
जीते तो हम अपनों के लिए हैं
वरना जानवर भी क्या कम हैं
अपने ही हाथों खोदनी पड़ती
अपनों की कब्र है
इस धरा पर सब
धरा रह जाना है
तेरा कीमती सब
उड़ चला जाना है
जंग का न रूप न स्वरूप है
न आकार न प्रकार है
विचारों से हर जंग की
होती शुरुआत है
हार गया तब हार ही जाएगा
गर जीत गया
तब भी हार ही जाना है
इस युद्ध में मैं प्यादा तू खिलौना
जंग बड़े लोगों की खेती व्यापार है
जीत किसी की नहीं
हार सबकी होनी है
युद्ध के बाद भी
खाली सबकी झोली है
सभी सपने नष्ट हो जाएंगे
कौन अपने, कौन पराये
स्पष्ट हो जाएंगे
हथियारों का जखीरा है तैयार
आखिर किसके लिए ?
अपने ही न रहे अगर
फिर ये जीवन किसलिए ?
समझदार होकर भी
बचा न सके धरती
तब हम इंसान किसलिए ?

71 thoughts on “युद्ध से नफरत कर

  1. Sohanpreet Kaur June 29, 2019 — 12:32 PM

    युद्ध में कोई भी जीते, लेकिन हमारी हार ही है।
    बहुत खूब!

    Liked by 5 people

    1. बिल्कुल सही कहा आपने सोहनप्रीत जी,
      लेकिन जाने क्यों कई लोग आखिरी पर्याय मानने की जगह पहला पर्याय समझने लगते हैं और युद्ध की पैरवी करने लगते हैं
      बहुत निंदनीय है । 🤔

      Liked by 4 people

  2. युद्ध सदा विनाश नहीं लाते है कभी कभी सृजन करते है जब सारे प्रयास बेकार हो जाये।युद्ध मानव का इतिहास है ।

    Liked by 7 people

    1. हाँ बिल्कुल सही कहा आपने धनन्जय जी,
      पर मैं उस युद्ध की बात कर रहा हूँ जो Power, Colinisation के लिए होते हैं, जो Politically Motivated होते हैं, उस युद्ध की बात कर रहा हूँ जहाँ कुछ देशों के लिए युद्ध व्यापार होता है,
      जहाँ बड़े लोग और नेता लोग मजे लेते हैं और मरता सिर्फ आम आदमी और फौजी है
      और हाँ, युद्ध केवल बन्दूक, गोला, बारूद वाला ही नहीं होता, उसके कई रूप होते हैं
      मैं उनकी भी बात कर रहा हूँ ।

      Liked by 2 people

  3. बहुत सही लिखा है। A great man once said “War doesn’t decide who wins, only who is left”

    Liked by 6 people

    1. Absolutely correct,
      Thanks for all your praise 🤗

      Liked by 1 person

  4. Bahut sundar msg
    युद्ध बड़े लोगों की खेती व्यापार है
    वोटों के लिये सोचा समझा कारोबार है

    Liked by 7 people

    1. और अक्ल के कच्चे लोग वोट दे भी देते हैं भावनाओं में बहकर
      मूर्खों की कमी नहीं है देश में

      Liked by 3 people

    2. वैसे तारीफ के लिए शुक्रिया 🤗

      Liked by 2 people

      1. You are welcome….

        Liked by 5 people

    1. Only if own existence is in danger to self protection but still it’s disaster for every common people.

      Liked by 1 person

  5. सराहनीय कविता है।वास्तव में हर युध्द सब नष्ट करता है इंसानो की बनाई खूबसूरत हर चीज के साथ उनकी भावनाओं को भी नष्ट कर देता है।प्रार्थना करती हूं-इश्वर मानवता की रक्षा करे🙏

    Liked by 5 people

    1. हमारी भी यही प्रार्थना है अरुणा जी
      सभी सुरक्षित रहें और ऐसी नौबत कभी न आए
      शुक्रिया आपका ☺️🤗

      Like

  6. बहुत उम्दा विचार

    Liked by 5 people

    1. शुक्रिया अनु जी 😃🤗

      Liked by 1 person

  7. बहुत खूब लिखा । युद्ध किसी समस्या का हल नहीं है।

    Liked by 3 people

    1. सही कहा आपने
      बहुत शुक्रिया आपका 😃😁🤗

      Like

  8. शानदार रचना👌

    Liked by 5 people

    1. बहुत शुक्रिया आपका ज़ोया जी 😃😁🍫💐

      Liked by 1 person

  9. Bhagwan ram ne ravan ko kai baar shanti prastaav bheja par raavan bhi mana , ram g ne kaha tha yudh sarvnash hai isse nirdosh logon ki jaan jayegii. Atyant sunder kavita.

    Liked by 6 people

    1. बिल्कुल सही फरमाया आपने
      बहुत बहुत शुक्रिया डॉली जी 😀

      Like

  10. Great words!
    I respect your feelings well expressed in this poem. Nobody going to gain anything out of a war. It’s only loss for society and our environment irrespective of results of the war.

    Liked by 4 people

    1. Absolutely Right
      Thanks for appreciate 🤗😁

      Liked by 1 person

  11. Totally agree war is not a solution. Great poem 😊

    Liked by 5 people

    1. Absolutely true
      Thank you dear 😃🤗

      Liked by 1 person

  12. बहुत खूब। इस धरा पे जब धरा रह जाएगा। 👌सुंदर भाव।
    युद्ध शब्द से ही destruction का आभास होता है।

    Liked by 4 people

    1. सच कहा आपने
      शुक्रिया 🤗

      Like

  13. बिलकुल सही कहा आपने, पर सत्ता के लालची यह सब कहाँ समझते है ?

    Liked by 5 people

    1. सच कहा आपने
      सत्ता वालों ने ही तो दुनिया बर्बाद कर रखी है

      Liked by 1 person

  14. Yess…war is never good…for neither the country nor for the people

    Liked by 3 people

    1. Yeah absolutely correct
      Thank you so much Sakshi for your support and for your love in the form of likes and beautiful comments.
      Feeling Good 😁
      🍨🍧🍺🍭💐💐🍫🍫🍫😁

      Like

        1. 😄🍫💐🍭🍺🍧🍨💐😁

          Like

  15. Bht sahi 🌈🌼🌼🤍

    Liked by 3 people

  16. 🤜

    Liked by 2 people

  17. ap achha likhte h mujhe like kr dijiye kre

    Liked by 3 people

    1. Thanks, ok aapke post like kar dunga

      Like

        1. 🌷🌺🌸🌻🌼💮💐🏵️🌈😁

          Liked by 1 person

  18. Agr sb koi ye smjh pate, to kya hi bat hoti ♥♥

    Liked by 1 person

    1. Bilkul sach kaha aapne Sonali ❤️❤️❤️
      Smjhdar bante sab hain par actual me smjhdari hoti nhi

      Liked by 1 person

  19. Very profound thought. No one wins with war👏🏼👏🏼👌🏼

    Liked by 1 person

    1. True
      Thank you so much dear 🤗🍫

      Liked by 1 person

  20. क्या खूब लिखा है, युद्ध में सिर्फ नुकसान होता है
    और वो भी उन लोगों का जिनका कोई दोष नहीं, जिनकी कोई लड़ाई नहीं।

    Liked by 1 person

    1. बिलकुल सही कहा आपने
      Thank you so much 🤗💐

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close