ऐसा भी कोई नहीं

कुछ टूट सा गया है भीतर
कुछ खत्म हो गया है
कुछ खो सा गया है
वो क्या है
ऐसा क्यों है
कैसे ठीक करूं खुद को
कुछ पता नहीं
किसी से पूछ लूं इसका इलाज
ऐसा भी कोई नहीं,
उम्र कम होती जा रही
दिन प्रतिदिन
दर्द बढ़ता जा रहा है
थम सा गया हूं
इधर उधर देखता
खुद को फिर से पा लेने के लिए
पूर्ण करने व
जीवंत बनाने के लिए
जीवन के चौराहे पर
भटका हुआ खड़ा हूं कब से
कोई रास्ता बता दे
ऐसा भी कोई नहीं ॥

16 thoughts on “ऐसा भी कोई नहीं

  1. Ak bar kisi insaan ko kisi cheej me kaamyaabi mil jaaye tab har koi aa jaata he mgr pahle koi aanaa to dur dekhnaa bhi pasnd nahi karta he is dunyaa me asa hi hota he dost jada asi baato ko mat socha kro acha socho to acha hi hoga

    Liked by 2 people

    1. Haa bilkul sach kaha aapne dear
      Achha hi sochunga
      Thank you so much 🤗💐

      Liked by 1 person

      1. Koi bhi insaan naa to hamesha hamaare sath rahta he or naa he sath deya he is liye khud hi khud ka shaara bano khud ko itna majboot bnaao ke inka sab se hame koi fark hi naa pade fir chaaye koi hamaare sath ho yaa nahi dost

        Liked by 2 people

        1. Haa sahi kaha dear aapne lekin kbhi kbhi khud ka sahara bante bante insaan thak jata hai, fir wo bs araam karna chahta hai, bs araam

          Liked by 1 person

          1. Ye baat बिल्कुल aap ki sahi he dear

            Liked by 1 person

  2. Bahut hi sundar panktiyon me apne jeevan ke utaar chadhaav ko darshaya hai… Jeevan aisa hi hai kabhi kabhi humare sath kuch aise pal ate hain jab hun akela mehsoos karte hain…

    Very well written

    Liked by 3 people

    1. Haa sahi kaha aapne, or wo akelapan aur gehra ho jata hai jb usi waqt wo log bhi chhod kar chale jate hain jinhe apne sath dekh kar hum गौरावंतित mehsus karte the, jinke akelepan ya unke worst time me hum unka sahara bante the.

      Liked by 1 person

  3. Himalayan Monk July 12, 2021 — 8:31 AM

    गुत्थियों को सुलझाने ख़ातिर
    गुत्थियां बुनता गया
    जो सुबह था रचा, शाम तक सुलझा न सका

    न जी सका जीवन को, एक दिन भर का फ़ेर
    उलझे को सुलझाने में, उलझता चला गया

    हे जीवन तुझको, ना समझ सका

    चल पहेलियों अब दूर कर, खेल बहुत हो गया
    जी सीधा है उसे सीधा ही रख़ते हैं
    उलझा तो वक़्त संग था,
    वक़्त के साथ सुलझ गया

    जीवन को उलझना क्यों,
    जो उलझा था या तो सुलझेगा
    या बेहतर हो जाएगा

    जीवन को क्षण भर न समझ,
    जीवन यात्रा है,
    गुत्थियाँ को बनना सुलझना ही तो रंगमंच है
    खेल का खिलाड़ी बन,
    संचालक बना तो खुद ही उलझ जाएगा

    क्यों भूलते है हम, जीवन एक तपोवन है
    पुरुषार्थ के तप से बनाना गलाना
    और आगे बढ़ना बढ़ाना
    यही तो रंगमंच है
    गुत्थी कहो
    या
    सुतथी
    लेकिन खेल तो खेलना ही है,
    यात्रा का आनंद भी
    खुद पर हंस कर लेना है।

    Liked by 1 person

    1. बहुत सुंदर रचना

      Liked by 1 person

  4. kyaa baat! sirf itna kahunga.. aisa bhi koi aayega .. zarur aayega 😀

    Liked by 1 person

    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका 🤗

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close